Latest Posts

Uncategorized

पूर्व-धारणा के साथ संजीवनी आवश्यकता: संतान की प्राथमिकता

6Views

क्‍या आप भी प्रेग्‍नेंसी प्‍लान कर रही हैं? अगर आपका जवाब हां है, तो आपको प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग करनी चाहिए। इसमें आपको अपने कंसीव करने के चांसेस और अन्‍य कारकों के बारे में पता चलता है। फ्यूचर में प्रेग्‍नेंसी प्‍लान करने के लिए यह एक महत्‍वपूर्ण कदम होता है। इसमें प्रेग्‍नेंसी से जुड़े संभावित कारकों, सेहत और हेल्‍दी प्रेग्‍नेंसी के लिए मार्गदर्शन के लिए हेल्‍थकेयर प्रोफेशनल से बात की जाती है।

अगर आप भी प्रेग्‍नेंसी प्‍लान कर रही हैं, तो आपको भी प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग लेनी चाहिए। इस आर्टिकल में आगे इसी के बारे में बताया गया है।

इनफर्टिलिटी बन गई है समस्‍या

इंडियन जर्नल ऑफ कम्युनिटी मेडिसिन के अनुसार, इनफर्टिलिटी एक महत्वपूर्ण वैश्विक स्वास्थ्य चिंता का विषय बन गया है, जिससे वैश्विक स्तर पर लगभग 8 से 10% कपल्‍स प्रभावित हो रहे हैं। अनुमान है कि दुनिया भर में सालाना इनफर्टिलिटी का सामना करने वाले 60-80 मिलियन जोड़ों में से लगभग 15 से 20 मिलियन (25%) अकेले भारत में रहते हैं।

इनफर्टिलिटी की आती है प्रॉब्‍लम

onlymyhealth में कोलकाता के रिन्‍यू हेल्‍थकेयर के आईवीएफ स्‍पेशलिस्‍ट डॉक्‍टर राजीव अग्रवाल ने कहा कि कम से कम 10 से 15% विवाहित जोड़े किसी न किसी समय पर प्रजनन संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं। कई कपल्‍स सोचते हैं कि वो बाद में प्रेग्‍नेंसी प्‍लान करेंगे और देरी करने के चक्‍कर में इनफर्टिलिटी दस्‍तक देने लगती है। गर्भावस्था में देरी करने वालों में से 54% को 30 की उम्र में गर्भधारण में समस्या का सामना करना पड़ता है।

प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग क्‍या है

प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग एक एडवाइजरी है जिसमें कपल्‍स को कंसीव करने से पहले कुछ जरूरी सलाह दी जाती है। प्रीकंसेप्‍शन हेल्‍थ का मतलब होता है कंसीव करने के लिए अपनी सेहत का ख्‍याल रखना और यह जानना कि आप पूरी तरह से हेल्‍दी हैं या नहीं। आप अभी फैमिली प्‍लानिंग कर रहे हों या कुछ समय बाद के लिए सोच रहे हैं, इसमें गोल सेट करना, प्‍लानिंग करना और सबसे ज्‍यादा जरूरी प्रीकंसेप्‍शन के दौरान अपना ख्‍याल रखना होता है।

​प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग के क्‍या फायदे हैं​

प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग में मौजूदा चिकित्सा स्थितियों का मूल्यांकन और उनका इलाज किया जाता है, देखा जाता है कि जीवनशैली में क्‍या बदलाव करने की जरूरत है, फर्टिलिटी स्कोर और प्रजनन विंडो को समझना, यदि आवश्यक हो तो परिवार शुरू करने में देरी करने पर मार्गदर्शन, प्राकृतिक गर्भाधान के लिए फर्टिलिटी टाइम का निर्धारण करना। ये सब चीजें प्रीकंसेप्‍शन काउंसलिंग से पता चल पाती हैं और जो समस्‍याएं हैं, उन्‍हें समय रहते ठीक करने की कोशिश की जाती है।

admin
the authoradmin