Latest Posts

विदेश

इजरायल ने लॉन्च किया एरो मिसाइल डिफेंस सिस्टम, जानिए कितना ताकतवर है ये हथियार

20Views

तेल अवीव

इजरायल और हमास के बीच चल रही जंग दिनों-दिन भीषण होती जा रही है. गाजा में इजरायली सेना लगातार कार्रवाई कर रही है. लेबनान-इजरायल सीमा पर भी हालात गंभीर हैं. आतंकी संगठन हिजबुल्लाह के आतंकवादी लगातार इजरायल की ओर रॉकेट दाग रहे हैं, तो इजरायली सेना भी जवाबी कार्रवाई करते हुए उनके ठिकानों पर हमले कर रही है. इसी बीच इजरायल ने अपने सबसे ताकतवर हथियार एरो मिसाइल डिफेंस सिस्टम लॉन्च कर दिया है. पहले टेस्ट में ही लाल सागर से दागे गए एक रॉकेट को एरो सिस्टम ने मार गिराया है. 

साल 2022 में इजरायल ने एरो मिसाइल डिफेंस सिस्टम का सफल परीक्षण किया था. इस डिफेंस सिस्टम की सबसे बड़ी खासियत यह है कि ये चारों तरफ से आने वाली मिसाइलों को एक साथ नष्ट कर सकता है. इतना ही नहीं 200 किलोमीटर से अधिक दूरी वाली बैलिस्टिक मिसाइलों को टारगेट करके रोकने की क्षमता रखता है. इसकी एक खूबी यह भी है कि ये बैलिस्टिक मिसाइलों को वायुमंडल के बाहर भी मार सकता है. इसके साथ ही बायो, न्यूक्लियर और केमिकल ले जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइल को नष्ट कर सकता है.

एरो मिसाइल डिफेंस सिस्टम अत्याधुनिक मिसाइलों और रॉकेट से लैस है. इसे इजराइल का सबसे मजबूत शील्ड सिस्टम माना जाता है. इससे दागी गई मिसाइल डायवर्ट मोटर होने के साथ कभी भी अपनी दिशा बदल सकती है. करीब 2400 किमी तक मार कर सकती है. इसको एंटी सैटेलाइट हथियार के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है. ये तकनीक दुनिया के कुछ देशों के पास ही मौजूद है. इजरायल ने साल 2006 में लेबनान में हिजबुल्लाह और 2014 में गाजा पट्टी में हमास के आतंकियों के खिलाफ इसका इस्तेमाल किया था. 

इजरायल हमले में तबाह गाजा में हालात तेजी से बिगड़ने रहे हैं. एक तरफ युद्ध में घायलों को इलाज संभव नहीं हो पा रहा है, तो वहीं दूसरी ईंधन और खाने-पीने की समस्या की वजह से लोग भूखमरी की कगार पर पहुंच चुके हैं. गाजा के खान यूनिस के आबादी वाले इलाकों पर इजरायल ने एयरस्ट्राइक की है. इसमें 26 नागरिकों की मौत हो गई, जबकि 23 से अधिक घायल हो गए हैं. गाजा में घायल 8 बच्चों समेत 15 लोगों को फ्लाइट से अबू धाबी लाया गया है. वहां के एक अस्पताल में गंभीर रुप से घायलों का इलाज हो रहा है.

इजरायली लड़की का न्यूड परेड कराने वाले आतंकी को मार गिराया

इजरायली सेना चुन-चुन कर हमास के आतंकियों को मार रही है. हमास के दो दर्जन से अधिक प्रमुख कमांडर मारे जा चुके हैं. पिछले महीने 7 अक्टूबर को इजरायल पर हुए हमले के बाद हमास के आतंकियों ने एक जर्मन-इजरायली लड़की को अगवा करके उसका न्यूड परेड कराया था. इसका एक वीडियो भी वायरल हुआ था. उसको देखने के बाद पता चला था कि हमास ने इजरायल में किस कदर कोहराम मचाया था. लोगों के साथ कितना वीभत्स सलूक किया गया. इस दरिंदगी को अंजाम देने वाले एक आतंकी को आईडीएफ ने मार गिराया है.

हमास के ठिकानों से आईडीएफ ने बरामद किया हथियारों का जखीरा

गाजा में हमास के ठिकानों से भारी संख्या में हथियारों का जखीरा बरामद किया गया है. इजरायली सेना ने बड़ी संख्या में रॉकेट और अत्याधुनिक राइफल जब्त किए हैं. उनका दावा है कि आतंकियों ने अपने बिस्तरों में रॉकेट और एंटी टैंक मिसाइलें छिपाकर रखी हुई थी. इसका एक वीडियो भी जारी किया गया है. आईडीएफ ने अस्पताल के बाद एक स्कूल में हमास के लड़ाकों के छिपे होने का भी दावा किया है. यही वजह है कि इजरायली सेना के जवान अस्पताल और स्कूल की छानबीन कर रहे हैं. वहां जमीन और आसमान से हमला कर रहे हैं.

इजरायली सेना ने 35 सुरंगों को किया ध्वस्त, ग्राउंड ऑपरेशन जारी

गाजा के सबसे बड़े अस्पताल अल-शिफा पर कब्जा करने के बाद इजरायली सेना लगातार ग्राउंड ऑपरेशन कर रही है. इसमें इजरायली वायुसेना भी उनके साथ है. ग्राउंड पर मौजूद जवानों की निशानदेही के बाद इशारे पर लगातार एयरस्ट्राइक कर रही है. पिछले 24 घंटों के दौरान आईडीएफ ने 35 सुरंगों को पता करके ध्वस्त कर दिया है. इस ऑपरेशन के दौरान नॉर्थ गाजा के शेख इजलिन और रिमल इलाकों से 7 रॉकेट लांचर, बड़ीं सख्या में हथियार और गोला बारूद बरामद किए गए हैं. हमास कमांडरों के घर पर भी कार्रवाई की जा रही है.

अल-शिफा अस्पताल से आतंकी गतिविधियों को दे रहे थे अंजाम

इजरायली हमास को पूरी दुनिया के सामने बेनकाब कर दिया है. हमास के आतंकी किस तरह अस्पताल और स्कूल का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए कर रहे हैं, इसे पूरी दुनिया देख चुकी है. इंसानियत की दुहाई देने वाले हमास के नेताओं के नापाक मंसूबों का पर्दाफाश हो चुका है. आईडीएफ ने आतंक का कमांड सेंटर बन चुके अल-शिफा अस्पताल को भी अपने कब्जे में ले लिया है. अमेरिका ने खुफिया जानकारी के आधार पर पहले ही ये साफ कर दिया था कि अल-शिफा के नीचे हमास का कमांड कंट्रोल सेंटर है.

अस्पताल में दवाई की जगह मिले एके-47, ग्रेनेड और राइफल

इजरायली सेना जब अल-शिफा अस्पताल में दाखिल हुई तो एक खास हिस्से में सर्जिकल ऑपरेशन किया था. वहां सीसीटीवी कैमरों पर हमास के आतंकियों ने टेप लगा रखा था. एमआरआई रूम में मशीन के पीछे एक बैग में एके-47 राइफल, ग्रेनेड और राइफल की मैगजीन रखी हुई थी. अलमारी में कपड़े से ढक कर असॉल्ट राइफल रखी गई थी. शेल्फ में जहां दवाइयां होनी चाहिए वहां भी हथियार और कारतूस रखे हुए थे. हमास की पूरी मिलिट्री किट मिली थी. अस्पताल के नीचे एक टनल नेटवर्क भी मिला है. 

admin
the authoradmin